TPL_GK_LANG_MOBILE_MENU

प्रदेश

कोबरा पोस्ट ने नीतीश कुमार के आवास पर सोलर पावर लगाने में तीन करोड़ के घोटाले का खुलासा किया

User Rating: 0 / 5

Star inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactive

Solar power scam reaches Bihar's "Sushashan babu" Chief Minister's doorstep, Cobrapost brings to light a Rs 3 crore scam regarding purchasing of solar lamps for Bihar Chief Minister Nitish Kumar’s residence, involving state government officials

By Md Hizbullah

Another solar scam in Bihar has come to light following an RTI petition by activist Shiv Prakash Rai, this time at Chief Minister Nitish Kumar’s official residence. In 2011, the Central government had proposed installing a solar plant at the chief minister’s residence and office premises, including at his Janta Darbar. According to documents available with Cobrapost from the Ministry of New and Renewable Energy (MNRE), the total cost for the project was Rs 3 crore, of which 50 per cent was to be paid by the state government and the other half by the Central government.

Read more: कोबरा पोस्ट ने नीतीश कुमार के आवास पर सोलर पावर लगाने में तीन करोड़ के घोटाले का खुलासा किया

रामदेव और आसाराम जैसे बाबा मीडिया की देन : महंत नरेंद्र गिरी

User Rating: 5 / 5

Star activeStar activeStar activeStar activeStar active

उज्जैन। मध्यप्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में सिंहस्थ कुम्भ के पावन अवसर पर शनिवार को सिंहस्थ और मीडिया की भूमिका पर राष्ट्रीय परिचर्चा का आयोजन हुआ।  अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि मीडिया वास्तव में देश का सचिव है। वही राज्य को सही सूचनायें देता है। मीडिया को निष्पक्ष होना चाहिए, चाटुकार नही वरना देश और समाज का नुकसान होता है। समाचारो में आलोचना भी सकारात्मक रूप में ही आए तो अच्छा हो। आजकल कई ऐसे महात्मा भी आ गए है जो संत नहीं हैं, वे महज मीडिया को मैनेज कर के ही संत बन गए हैं। आज तक यदि किसी अखाड़े के संत पर कोई लांछन लगा हो तो मैं आज ही सन्यास छोड़ कर पेंट शर्ट पहन लूंगा।

Read more: रामदेव और आसाराम जैसे बाबा मीडिया की देन : महंत नरेंद्र गिरी

यूपी में भाजपा ने जाति पर लगाया दांव

  • Written by प्रभुनाथ शुक्ल
  • Category: प्रदेश

User Rating: 5 / 5

Star activeStar activeStar activeStar activeStar active

-प्रभुनाथ शुक्ल

राजनीतिक लिहाज से सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की राजनीतिक उथल-पुथल का असर पूरे राष्टीय परिदृश्य पर दिखायी देता है। राजनीति में एक कहावत चर्चित है कि दिल्ली का रास्ता लखनउ से होकर गुजरता है। यानी केंद्र की सत्ता पर झंडा फहराना है तो यूपी की उपेक्षा नहीं की जा सकती है। भाजपा के दिल्ली राजतिलक में इस राज्य की अहम भूमिका रही है। दिल्ली और बिहार में मुंहकी खाने के बाद भाजपा का अगला निशाना यूपी है। क्योंकि राज्य में 2017 में सबसे बड़ा राजनैतिक महासंग्राम होगा। भाजपा ने इसका ब्लूप्रिंट तैयार कर लिया है।

Read more: यूपी में भाजपा ने जाति पर लगाया दांव

जम्मू-कश्मीर में झंडा राजनीति के बल पर सत्ता में आई भाजपा को यही झंडे ले डूबेंगे!

  • Written by सुरेश डुग्गर
  • Category: प्रदेश

User Rating: 5 / 5

Star activeStar activeStar activeStar activeStar active

जम्मू-कश्मीर में पहली बार सत्ता में आने वाली भाजपा के लिए वही झंडे अब चिंता का कारण बनने लगे हैं जिनके सहारे उसने राज्य की राजनीति में अपना प्रभुत्व जमाया। हालात यह है कि इन झंडों की राजनीति में उसका भविष्य खतरे में नजर आने लगा है। चिंता तो यह भी है कि कहीं ये झंडे उसको ले न डूबें। सबको 1992 की 26 जनवरी याद होगी, जब भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी श्रीनगर के लाल चौक में संगीनों के साए में और कर्फ्यू के हालात में तिरंगा फहराकर वाहवाही लूट चुके हैं, पर अब उसी तिरंगे के कारण भाजपा की किरकिरी एनआईटी श्रीनगर के प्रकरण ने करवा दी है।

Read more: जम्मू-कश्मीर में झंडा राजनीति के बल पर सत्ता में आई भाजपा को यही झंडे ले डूबेंगे!

अपने भ्रष्ट नेताओं के कारण रो रहा उत्तराखंड, सत्ता में बने रहना इन नेताओं की पहली और आखिरी प्राथमिकता

  • Written by प्रयाग पांडे
  • Category: प्रदेश

User Rating: 0 / 5

Star inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactive

नैनीताल : उत्तराखंड के नेताओं की सत्तालोलुपता और निजी महत्वाकांक्षाओं ने इस पहाड़ी राज्य को राजनीतिक अस्थिरता के भंवर में धकेल दिया है। यहाँ के नेताओं की सत्तालिप्सा के चलते ही आज उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लगा है। राज्य की सत्ता हासिल करने की इस अमर्यादित दौड़ में कांग्रेस और भाजपा के बीच जबरदस्त जंग छिड़ी हुई है। सत्ता पाने की इस होड़ में अलग राज्य गठन से जुड़े बुनियादी सवाल पहले ही दरकिनार हो चुके हैं। अब खुदगर्ज नेताओं ने अलग राज्य के सपने को भी चकनाचूर कर  दिया है। उत्तराखंड की आम जनता कांग्रेस और भाजपा के हाथों की महज कठपुतली बन कर रह गई है। मौजूदा सत्ता कलह के चलते पहाड़ के नेताओं की विश्वसनीयता और साख पर ही बट्टा नहीं लगा है, बल्कि इस सियासी प्रहसन से यहाँ के आम लोग बेहद निराश और हताश हैं। इन दिनों उत्तराखंड के भीतर चल रही सियासी उठापटक से यह साफ हो गया कि सत्ता में बने रहना यहाँ के नेताओं की पहली और आखिरी प्राथमिकता है, इसके लिए वे किसी भी हद तक जा सकते हैं।

Read more: अपने भ्रष्ट नेताओं के कारण रो रहा उत्तराखंड, सत्ता में बने रहना इन नेताओं की पहली और आखिरी...

सर्वाधिक लोकप्रिय पोस्ट

Follow Us>      Facebook         Twitter         Google+