TPL_GK_LANG_MOBILE_MENU

विविध

पदोन्नति में आरक्षण की बहाली हेतु संविधान संशोधन ज़रूरी

  • Written by एस.आर.दारापुरी
  • Category: विविध

User Rating: 0 / 5

Star inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactive

गत वर्ष उत्तर प्रदेश सरकार ने शासनादेश द्वारा पदोन्नति में आरक्षण और परिणामी ज्येष्ठता के आधार पर 15/11/97 के बाद और 28/4/12 के पूर्व पदोन्नति पाए सभी दलित अधिकारीयों/कर्मचारियों को उनके मूल पद पर पदावनत करने का आदेश जारी किया था. शासनादेश में कहा गया था कि उक्त कार्रवाही सुप्रीम द्वारा एम नागराज के मामले में दिए गए निर्णय के अनुपालन में की जा रही है. इसी प्रकार की कार्रवाही देश के अन्य प्रान्तों में भी की गयी है. आइये सब से पहले यह देखें कि 2006 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा एम नागराज के मामले में क्या दिशा निर्देश दिए गए थे? इस निर्णय में सुप्रीम कोर्ट ने पदोन्नति में आरक्षण और परिणामी ज्येष्ठता के नियम को स्थगित करते हुए कहा था कि सरकार जिन जातियों को इस का लाभ देना चाहती है वह उन जातियों के सामाजिक एवं शैक्षिक पिछड़ापन, सरकारी नौकरियों में उनके प्रतिनिधित्व के बारे में आंकड़े तथा इस से कार्यक्षमता पर पड़े प्रभाव का आंकलन करके रिपोर्ट प्रस्तुत करे. सुप्रीम कोर्ट का यह निर्णय 2006 में आया था जब उत्तर परदेश में मुलायम सिंह की सरकार थी. इस पर उन्होंने पदोन्नति में आरक्षण पर रोक लगा दी थी.

Read more: पदोन्नति में आरक्षण की बहाली हेतु संविधान संशोधन ज़रूरी

'परिषद साक्ष्य' का जेपी अंक यानी संपूर्ण क्रान्ति के नायक को नया हुंकार देती पत्रिका

  • Written by शहंशाह आलम
  • Category: विविध

User Rating: 0 / 5

Star inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactive

इस सच से इनकार नहीं किया जा सकता कि लोकनायक जयप्रकाश नारायण की 'संपूर्ण क्रान्ति' देश की आत्मा और देश की चेतना में अब भी पूरी तरह पैवस्त है। बिहार का सन् 1974 का छात्र-आंदोलन व्यवस्था-परिवर्तन के लिए जयप्रकाशजी की ललकार पर किए गए विश्व भर के उन आंदोलनों जैसा ही था, जोकि सफ़ल हुए थे। यह एक ऐसा अद्भुत आंदोलन था, जिसने लालू प्रसाद, नीतीश कुमार, सुशील कुमार मोदी तथा प्रो. जाबिर हुसेन जैसे नेताओं को भी जन्म दिया, जो जयप्रकाशजी के विचारों को आज भी स्पष्ट और सार्थक तरीक़े से ज़िंदा रखे हुए हैं।

Read more: 'परिषद साक्ष्य' का जेपी अंक यानी संपूर्ण क्रान्ति के नायक को नया हुंकार देती पत्रिका

बनारस के सरस्वती फाटक के नीचे सरस्वती कुंड दबा है? उत्खनन प्रारंभ, मेयर ने चलाया पहला फावड़ा

  • Written by पदमपति शर्मा
  • Category: विविध

User Rating: 0 / 5

Star inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactive

बनारस का प्राचीन मोहल्ला सरस्वती फाटक, जिसका नया नाम विश्वनाथ मंदिर गेट नंबर दो हो गया है, यहीं मैं जन्मा-पला-बढ़ा ही नहीं, आधी सदी से ज्यादा समय से यहां मौजूद उद्यान का बैडमिंटन कोर्ट मेरी फिटनेस स्थली भी रहा है. लंबी कहानी है सरस्वती उद्यान और बैडमिंटन की. उसकी फिर कभी चर्चा करूंगा. विक्रम संवत 2073 का आरंभ एक घबराई सी फोन काल के साथ सुबह हुआ, ' जल्दी आइए, विकास प्राधिकरण वाले आए हैं और कोर्ट तोड़ने जा रहे हैं.' घर से सौ मीटर होगा उद्यान सेकेंडों में पहुंच गया. देखता हूं कि कुछ पुरुष - महिला श्रमिकों के साथ लोग वहां वाकई कुदाल फावड़े के साथ मौजूद थे. स्थानीय निवासियों के अलावा वे भी थे जो पिछले पचपन वर्षों से यहां बैडमिंटन खेल रहे हैं.

Read more: बनारस के सरस्वती फाटक के नीचे सरस्वती कुंड दबा है? उत्खनन प्रारंभ, मेयर ने चलाया पहला फावड़ा

प्रेस काउंसिल आफ इंडिया ने सूचना प्रसारण मंत्रलाय के सचिव के खिलाफ वारंट जारी कर दिया

  • Written by Bhadas Desk
  • Category: विविध

User Rating: 0 / 5

Star inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactive

नई दिल्ली : भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई) ने एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सचिव सुनील अरोड़ा के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया। पीसीआई ने यह कदम अपने समन पर सोमवार को उनके उपस्थित नहीं होने पर उठाया। सेवानिवृत न्यायाधीश न्यायमूर्ति सी.के. प्रसाद की अध्यक्षता वाली परिषद ने सर्वसम्मति से यह निर्णय किया कि बैठक की अगली तारीख 22 अप्रैल को अरोड़ा उपस्थित हों।

Read more: प्रेस काउंसिल आफ इंडिया ने सूचना प्रसारण मंत्रलाय के सचिव के खिलाफ वारंट जारी कर दिया

दलित राजनीति को चाहिए एक नया रैडिकल विकल्प

  • Written by एस.आर.दारापुरी
  • Category: विविध

User Rating: 0 / 5

Star inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactiveStar inactive

-एस.आर. दारापुरी

रोहित की दर्दनाक आत्महत्या ने इस भयानक सच्च को उजागर किया है कि आज भी भारत में एक दलित को अपने विचारों और विश्वासों के साथ बराबरी और आज़ादी की चाह के साथ जीने की क्या कीमत चुकानी पड़ सकती है. और फिर उसके लिए न्याय की लड़ाई आज के भारत में कैसे लगभग असंभव है, एक हारी हुयी लड़ाई है.  रोहित देश के किसी गुमनाम दलित बस्ती में नहीं था वर्ना वहां से निकल कर साइब्राबाद के केन्द्रीय विश्वविद्यालय में देश की उच्चतम शिक्षा हासिल कर रहा प्रतिभाशाली नौजवान था. उसकी सांस्थानिक हत्या के खिलाफ देश में चौतरफा विरोध के स्वर उठे लेकिन सत्ता प्रतिष्ठान ने उसके लिए न्याय की लड़ाई को कुचलने  में सारी हद्दें पार कर दीं. 

Read more: दलित राजनीति को चाहिए एक नया रैडिकल विकल्प

सर्वाधिक लोकप्रिय पोस्ट

Follow Us>      Facebook         Twitter         Google+